मंगलवार, 26 अप्रैल 2016

26 / 04 / 2016



सच कहा तुमने
बहुत सोचती हूँ
पर ये भी कभी 

सोच कर देखना
सोचती हूँ इतना
तभी तो अभी तक
धड़कनों ने
याद रखा है धड़कना
और हाँ !
याद रखना
ये जो मेरी सोच है
यही तो हूँ मैं
पूरी की पूरी
आत्मा तक
मैं .....
बताओ न
क्या कभी कर पाओगे
स्वीकार मुझको
जैसी हूँ मैं
वैसी ही मुझको ..... निवेदिता

2 टिप्‍पणियां: