रविवार, 9 फ़रवरी 2014

आईना और परछाँई



ये अपना रिश्ता भी न  
सच बड़ा ही अलग सा है ,  
अपने बारे में जब भी सोचा  
तो तुम बस तुम दिख जाते हो , 
तुम को जब भी जानना चाहा 
तो आईना बन मैं ही दिख जाती हूँ , 
सूरज की तीखी चमक हो 
या चाँद की स्निग्ध शीतलता , 
परछाँई सा रच - बस कर   
एक दूजे की धड़कन बन जाते हैं ,
अपने हर सवाल का 
अपनी हर उलझन  का 
हर हल एक दूजे में ही पा जाते हैं 
इस रिश्ते को क्या कहूँ 
आईना और परछाँई का 
परछाँई के आईने का या 
आईने की परछाँई का रिश्ता  …… निवेदिता 

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर ..... समझकर भी समझना मुश्किल.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है.... रिश्तों में ऐसी ही आपसी समझ और स्वीकार्यता होनी चाहिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (10-02-2014) को "चलो एक काम से तो पीछा छूटा... " (चर्चा मंच-1519) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह...
    क्या बात है..
    सुन्दर एहसास..

    stay blessed!!
    anu

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम गली अति साँकरी, जा में दो न समाए... एक में दूसरा नहीं और दूसरे में पहला नहीं... बस एक में एक दिखाई देता है!! सच्चे रिश्तों की सच्ची कविता!! बहुत प्यारी!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वयं मे स्वयं की पहचान ...स्वयं के विस्तार में स्वयं का संकुचन ,या स्वयं का शून्य ...!!...सुंदर रचना निवेदिता जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर भाव से समाहित रचना .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आइना समझो या परछाई , ऐसे ही आमने सामने भी , भीतर भी !
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर,प्यारी रचना..
    मनभावन...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. बिंब-प्रतिबिंब --रिश्तों का रहस्य है यही !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद गहरे अर्थों से लबरेज़ रचना..

    उत्तर देंहटाएं