रविवार, 22 सितंबर 2013

एक बरसात कुछ अलग सी ……


मेरे  
सपनों की 
बालकनी में 
आवाज़ देते 
तुम  ……

तुम्हारी 
यादों की 
बारिश में 
भीगती 
मैं  ……. 

हमारे 
दरमियाँ 
भाप से 
धुंधलके का 
अनजानापन  ……

अजीब सी है 
ये रिश्तों की 
गहराती दलदल 
आओ डूब कर 
कहीं दूर मिल जायें …… 
                            -निवेदिता 

21 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हारी
    यादों की
    बारिश में
    भीगती
    मैं ……. बारिश में बिगती सुंदर सी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. डूबें...भीगें...बहें......और फिर मिल जाएँ......

    ये virus भी कमाल का है :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'डेंगू ज्वर' में मन हल्का करने के लिए मेरे कहने पर तुमने ' लैपटाप' उठाया और क्या 'खूब' लिख मारा |

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर ...मेरे भी ब्लॉग पर आये
    प्यारी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है ....ये लेखक जी टिपण्णी क्यों हटा रहे हैं बार बार ।......
    और कैसी हैं अब आप ?जल्दी ठीक होईये

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है.. बुखार में ख़याल भी गरमा रहे हैं गज़ब :)
    बहुत ही प्यारी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही प्यारी रचना...
    सुन्दर
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन एक था टाइगर - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल सोमवार (23-09-2013) को "वो बुलबुलें कहाँ वो तराने किधर गए.." (चर्चा मंचःअंक-1377) पर भी होगा!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  10. अजीब सी है
    ये रिश्तों की
    गहराती दलदल
    आओ डूब कर
    कहीं दूर मिल जायें .............बेहतरीन .....शीघ्र स्वस्थ हो की कामना

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरे
    सपनों की
    बालकनी में
    आवाज़ देते
    तुम ……

    तुम्हारी
    यादों की
    बारिश में
    भीगती
    मैं …….बहुत खुबसूरत कल्पना !
    Latest post हे निराकार!
    latest post कानून और दंड

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज आपकी यह कविता पढ़कर वो गीत याद आगया दी..." दोनों किसी को नज़र नहीं आयें चल दरिया में डूब जाएँ" :)इसी को तो रिश्तों की गर्माहट कहते हैं बहुत ही सुंदर भाव अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आप का वहाँ हार्दिक स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. देर से पढ़ रहा हूँ, आप स्वास्थ्यलाभ शीघ्र करें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. जल्दी ही स्वास्थ्य लाभ करें। ज्यादा न भीगें बारिश में।
    सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं