सोमवार, 16 जनवरी 2012

ज़िन्दगी तू ऐसे ज़िंदा क्यों है ?


हर साँस बस एक सवाल पूछती है
ज़िन्दगी तू ऐसे ज़िंदा क्यों है ?
क्या साँसों का चलना ही है ज़िन्दगी
हर कदम लडखडाती अटकती
मोच खाए पाँव घसीटती है ज़िन्दगी !
कभी दीमक तो कभी नागफनी
बातों और वादों की फांस लिए
अब तो हर डगर अटकाती ज़िन्दगी !
कभी मान तो कभी थी जरूरत
अब तो हर पल घुटती साँसों में
ज़िन्दगी का कर्ज़ उतारती है ज़िन्दगी !
                                       -निवेदिता 

29 टिप्‍पणियां:

  1. wah kya baat hai jindagi ...jindagi tu yese jinda kyu hai jindagi !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उफ्फ्फ न जाने क्या क्या और क्यूँ हैं ये जिंदगी.......शानदार पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी से बेज़ार हैं ,
    फिर भी
    जिंदा रहने के लिए
    तैयार हैं ...


    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिन्‍दगी इन सवालों के जवाब कहां देती है...बस चलती रहती है धड़कनों का साथ निभाते हुए ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ज़िन्दगी का कर्ज़ उतारती है ज़िन्दगी !

    Sundar

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  6. बस ऐसे ही गुजरती है ज़िन्दगी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिंदगी कैसी है पहली हाय......

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन इसी का नाम है ...!
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. शानदार पोस्ट| बहुत बढ़िया प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल 18/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है,जिन्‍दगी की बातें ... !

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन के कठिन पलों में ऐसे ख्याल आते अहिं पर उनको चिटक देना ही अच्छा होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही खूबसूरती से जिन्दगी के प्रशनो को शब्दों में ढाला है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. यही जीवन है..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  14. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति... समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  16. जिंदगी की सच्चाई , चंद लब्जो में उतर आई .

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी दीमक तो कभी नागफनी
    बातों और वादों की फांस लिए
    अब तो हर डगर अटकाती ज़िन्दगी
    lovely poem

    उत्तर देंहटाएं
  18. ज़िन्दगी का कर्ज़ उतारती है ज़िन्दगी !

    बहुत बड़ा सवाल है जिंदगी... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  19. very nice post. remarkable and suitable on most of Indian ladies..... Great compliments to you madam.

    उत्तर देंहटाएं
  20. इतनी कठिन जिन्दगी रही जनवरी मे! :)

    उत्तर देंहटाएं