सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

उदासी की क्लियरेंस सेल ......



रोज ही देखती हूँ
विज्ञापन
बाजारों में
लगी हुई सेल का 
कभी कपड़ों की
तो कभी बर्तन की ,
कभी मकान की
तो कभी दूकान की भी ,
कभी तंत्र - मंत्र की
तो कभी सौष्ठव बढ़ाने की ,
रोज ही तलाशती हूँ
काश  ....
कहीं दिख जाए
एक ऐसी भी सेल
जो बन  सके
अंतमन में बसेरा बनाये बैठी
उदासी की  क्लियरेंस सेल  ...... निवेदिता 

10 टिप्‍पणियां:

  1. ये शब्दों से क्या न करवा दो ..........
    उड़ा दो उदासियाँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर लिखा है,निवेदिता

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतनी भी उदासी जमा न किया करो ,
    अब निकाल फेंको फट से मेरे साथ .
    न इंतज़ार करो कि लगेगी कोई सेल
    जिसने भी लगाई है ,सबकी हुई है फेल....

    उत्तर देंहटाएं
  4. इतनी भी उदासी जमा न किया करो ,
    अब निकाल फेंको फट से मेरे साथ .
    न इंतज़ार करो कि लगेगी कोई सेल
    जिसने भी लगाई है ,सबकी हुई है फेल....

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये उदासी उपज है अंतर्मन की तो उसीके द्वारा क्लियरेंस सेल भी लग जाएगी और चुटकी बजाते ही स्टॉक क्लियर भी .... सुन्दर रचना ... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. वह तो घर में ही होगी, अपनों के बीच।

    उत्तर देंहटाएं