बुधवार, 23 जुलाई 2014

मेरी आँखें सोना चाहती हैं .......


वो दूर क्षितिज पर 
एक उजला साया सा दिखा 
अचंभित है मन बावरा 
वो दूर उड़ता उजला लम्हा 
रेशा - रेशा बादल है 
या कहीं उठती - गिरती 
समुद्री लहरों की 
नमकीन यादों का 
ज्वार  है छाया 
सहम जाते लड़खड़ाते 
कदम खोजते हैं 
अनजानी राहों की 
धूमिल सी पगडंडी 
वहीं कहीं ममता की छाँव 
झलक दिखला जाती 
अरे ! वो उजला साया तो है 
माँ , बस तुम्हारे ही  
दुलार बरसाते आँचल का साया 
बहुत दिनों से जागी मेरी आँखें 
अब तो बस थक गयीं हैं 
सोना चाहती हैं 
कभी न खुलने वाली 
नींद में  …… 
काश ! कहीं मिल जाए 
उन सुरीली लोरी की छाँव  …… निवेदिता 

13 टिप्‍पणियां:

  1. मन को छू गयी रचना .... माँ के आँचल तले मिलने वाली नींद और सुकून मन सदा ही तलाशता रहेगा ... :(

    उत्तर देंहटाएं
  2. माँ के आचल तले !
    सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबसे नर्म बिछावन - माँ की गोद
    सबसे सुन्दर गीत - माँ की लोरी
    मानव रूप में इश्वर - माँ
    उतनी ही सुन्दर रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मर्मस्पर्शी है ये खूबसूरत सी रचना...जाने कितना अनकहा दर्द समेट लिया है आखिरी की पंक्तियों में...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उस गोद की ही तो तलाश रहती है सभी को ... मिल जाए तो चिर-सुकून मिल जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर रचना...मन को छू जाती पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर रचना , मंगलकामनाएं आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut sunder shabdon se sajaya hai man me maan k liye uthti yadon ko.

    man dravit ho utha.

    aabhar mere blog par aane k liye.

    उत्तर देंहटाएं