बुधवार, 2 जुलाई 2014

आइसक्रीम सा जीवन .....



जीवन अपना 
एक आइसक्रीम जैसा 
इसको तो पिघलना है 
चाहे इसके छोटे टुकड़े कर के 
मुँह में रख लें ,या फिर 
हाथ में थाम कर देखते रहें 
और व्यर्थ जाने दें ...… 

ये जो छोटे - छोटे से पल हैं 
जी चाहे तो जी लो 
जी न चाहे तो बीत जाने दो 
पर पिघली हुई आइसक्रीम 
पिघल कर याद बहुत आती है ..... निवेदिता 


16 टिप्‍पणियां:

  1. सच है ...एक एक पल अनमोल है .... जी लें

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्‍या बात है .... जी चाहे तो जी लें
    जी न चाहे तो बीत जाने दें

    उत्तर देंहटाएं
  3. पिघलकर बहने न दिया जाय....
    lick it fast :-)

    anu

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन पूँजी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस ऐसे पल ही असल जीवन हैं ... जीने के लिए ...
    यादें जोड़ने के लिए इनका होना जरूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं

  7. कल 04/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच है ---जीवन को आइसक्रीम जैसा ही पिघलना है.आइसक्रीम की तरह ही जीवन कब पिघल जाता है पताही नही चलता !

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच आइसक्रीम सा पिघल जाना है इस जिंदगी को एक दिन ...
    बढ़िया चिंतन

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया...आपके ब्लॉग पर आना बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं