गुरुवार, 17 अप्रैल 2014

बस एक भटका हुआ ख़याल ......

अपने सपने कभी भी 
आँखों में न बसाये रखना 
बाँध टूटेंगे जब पलकों के 
अँसुवन संग बहते हुए 
समय की भँवर में 
अटकते - भटकते 
ना पा सकेंगे कोई ओर - छोर !

सपने तो बस सजा लेना 
अपने दिल की अबूझ सी 
अतल गराइयों में 
हर पल की मासूम सी 
धड़कती संवेदनाएं 
उनमें भर देंगी 
अलबेले रंगों की अनथकी उड़ान ! ..... निवेदिता  

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस भटके ख्याल ने दिल में पनाह पा ली है....
    बहुत सुन्दर !!
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. सपने कहाँ अपनी मर्जी से पलते हैं , कहाँ पलना है उन्हें .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सपनों मे ही सही अन थकी उड़ान :)
    बहुत सुंदर !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सपने क्या बस सजाने को होते हैं ... उन्हें पूरा करने का संकल्प लेना चाहिए ... हिम्मत से शायद पूरे हो सकें .. भावपूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं