शनिवार, 22 मार्च 2014

कमलकलिका का प्रस्फुटन .......



                                          मेरे आँखों की  
                                                  तैरती नमी में
                                                        चमक सी गयी 
                                                              तुम्हारी छवि                                                                                                                            कमलकलिका का 
                                                                           प्रस्फुटन यही तो है !

                                        ओस की बूँदें 
                                               कमलदल पर 
                                                      मेरी रगों में 
                                                             सूर्य किरण सी 
                                                                     खिलती चपला 
                                                                             अवगुंठन हटा 
                                                                                    यादों की बदली की !


                                        स्मित मेरे लबों की 
                                              आती - जाती रहती है 
                                                       पर हाँ ! नयन मेरे 
                                                                सदैव मुस्कराते हैं 
                                                                       अरे ! इनमें ही तो 
                                                                               सपनों सा तुम 
                                                                                     बरबस सजे रहते हो !
                                                                                                                 - निवेदिता 

8 टिप्‍पणियां:

  1. स्मित मेरे लबों की
    आती - जाती रहती है
    पर हाँ ! नयन मेरे
    सदैव मुस्कराते हैं
    अरे ! इनमें ही तो
    सपनों सा तुम
    बरबस सजे रहते हो !
    भावमय करते शब्‍दों का संगम

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण ...बहुत सुंदर भाव व शब्द भी ....!!

    उत्तर देंहटाएं

  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन ब्लॉग-बुलेटिन का बसंती चोला - 800 वीं पोस्ट मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं