रविवार, 3 नवंबर 2013

आरती .....


अभी कुछ दिनों पहले ही हमारे सखी सम्मिलन में आरती करने की पूरी प्रक्रिया पता चली ,जो निम्नवत है ........   

हम जिस भी देवता की पूजा करते है हम पूजन के सम्पूर्ण होने के प्रतीक सवरूप उस देवता की आरती भी करते हैं ।  हर देवता के बीज मंत्र भी भिन्न होते हैं जिनके द्वारा हम उनकी पूजा करते हैं । ऐसी मान्यता है की बीज मंत्र को स्नान थाल ,घंटी और जल पात्र पर चंदन अथवा रोली से लिखना चाहिए । यदि बीज मंत्र न पता हो तो हम ॐ  बना लेते हैं । 

हर देवता की आरती करने की संख्या भी अलग होती है । विष्णु भगवान को बारह बार आरती घुमाई जाती है । सूर्य देव को सात बार ,दुर्गा जी की नौ बार ,शंकर भगवान की ग्यारह बार ,गणेश जी की चार बार आरती घुमाई जाती है । यदि  देवता की संख्या न पता हो तो सात बार भी कर दी जाती है । 

आरती करने की प्रक्रिया को भी चार भागों में बाँटा गया है । सबसे पहले चरणों की ,फिर नाभि की , तत्पश्चात मुख की और सबसे अंत में सम्पूर्ण विगृह की । आरती कर लेने के बाद उसको ठंडा भी किया जाता है ,इसके लिए शंख अथवा फूल में जल ले कर आरती के चारों तरफ घूमाया जाता है उसके बाद ही आरती ली जाती है !

आरती की थाली में सामन्यतया अक्षत ,फूल , धूप , दीप , अगरबत्ती , कर्पूर , फल ,मिष्ठान्न रखा जाता है !   -निवेदिता 

7 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! क्या बात है! फिर आई दीवाली
    आपको दीपावली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    प्रकाशोत्सव के महापर्व दीपादली की हार्दिक शुभकानाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति !
    दीपावली पर्व की हादिक शुभकामनाए...!

    RECENT POST -: दीप जलायें .

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी को सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकामनायें !!
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन आई थोड़ी मीठी - थोड़ी खट्टी दिवाली - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (04-11-2013) महापर्व दीपावली की गुज़ारिश : चर्चामंच 1419 "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली के पंचपर्वों की शृंखला में
    अन्नकूट (गोवर्धन-पूजा) की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ नया और अद्भुत पता चला !!
    दीपोत्सव की शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं