सोमवार, 4 नवंबर 2013

पता .....



पता .....
ये भी
एक अजीब ही
शै बनी रही
नाउम्मीदी में भी
फ़क्त इसको
तलाशते ही रहे
उम्र भर
पर ....
आख़री सांस
के आने पर भी
पता का भी
पता न मिला
कभी ......
अपने होने का
छलावा बन
एक नाम
तो कभी
एक नंबर के
होने का एहसास
जगा जाते हैं
पर .....
अगला ही लम्हा
जैसे खिड़की के
खुले काँच पर
चंद खरोंचें दे
बाहर की कंटीली
शाखों के होने का
सोया सा एहसास
खुली पलकों में
वीरानी की चमक
सा बरस जाता ......
                 -निवेदिता 

10 टिप्‍पणियां:

  1. बस पता ही नही मिलता …………सबकी यही है शाश्वत खोज

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक खोज जो जीवन पर्यंत चलती रहती है ......
    सुंदर प्रस्तुति .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (05-11-2013) भइया तुम्हारी हो लम्बी उमर : चर्चामंच 1420 पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली के पंचपर्वों की शृंखला में
    भइया दूज की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. आख़री सांस
    के आने पर भी
    पता का भी
    पता न मिला
    कभी ......
    अपने होने का
    छलावा बन
    एक नाम
    तो कभी
    एक नंबर के
    होने का एहसास
    जगा जाते हैं ... सशक्‍त भाव

    उत्तर देंहटाएं