गुरुवार, 10 अक्तूबर 2013

ज़िन्दगी





                                         बिखरे पन्नों के हर शब्द में ,
                                                     झलक दिखाती संवारती है ज़िन्दगी
                                         हवाओं की सरगोशियों में भी ,
                                                     दरस दिखा ज़िंदा रखती है ज़िन्दगी
                                        अतीत भी कहाँ व्यतीत हुआ ,
                                                     हर लम्हा है जीती अपनी ज़िन्दगी
                                        आँसुओं की मुक्तामाला बिखेर ,
                                                      जीने के अंदाज़ सिखाती है ज़िन्दगी
                                                                                   - निवेदिता 

13 टिप्‍पणियां:

  1. तभी तो प्यार हो जाता है इस ज़िन्दगी से :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर ...ज़िंदगी तेरे रूप निराले ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (11-10-2013) चिट़ठी मेरे नाम की (चर्चा -1395) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर अभिव्यक्ति ... नवरात्र की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर लम्हा है जीती अपनी ज़िन्दगी
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति \
    लेटेस्ट पोस्ट नव दुर्गा

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो पली हो दर्द -दवारा, जिन्दगी है i
    भाग्य का टूटा सितारा ,जिन्दगी है i
    मीत के असहाय बिछुड़ने की सजा ,
    सिर्फ यादों का सहारा , जिन्दगी है i

    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी कभी बहुत खूबसूरत है ये जिंदगी

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो है जैसी है ... सुन्दर है जिन्दगी :)

    उत्तर देंहटाएं