शुक्रवार, 23 अगस्त 2013

शब्दों की तलाश ………



                                                शब्द यूँ ही भटकते - अटकते रहे
                                                कभी ख़्वाबों तो कभी ख़यालों में
                                                इक नामालूम सी श्वांस सरीखी
                                                मासूम सी पनाह की तलाश में
                                                बेपनाह आवारगी का दामन थाम
                                                अजीब सी चाहत पहचानी राह में
                                                खामोशी से उभर अपना ख़्वाब बनी
                                                मेरी चाहत के शब्दों को , काश
                                                मिल जायें बस स्वर तुम्हारे ........
                                                                                  -- निवेदिता 

22 टिप्‍पणियां:

  1. शब्द को शब्द मिल गए .....बन गई एक रचना प्यारी सी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन भाव की अभिव्यक्ति शब्द को अर्थ देते

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर ...प्यारे से एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख़ामोशी को शब्दों की जरूरत है !
    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज शनिवार (24-08-2013) को मुद्रा हुई रसातली, भोगें नरक करोड़-चर्चा मंच 1347 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. कल 25/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाहत के लफ्ज़ सफ़हे पर उतर आये...कैसी सुन्दर रचना है देखो...
    अब तो मुस्कुरा दो :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. छोटी सी, प्यारी सी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं