शुक्रवार, 7 जून 2013

उसने कहा .......


                                                             उसने कहा 
                                                           आँखे तुम्हारी 
                                                           पानीदार बड़ी  
                                                      और मानसून आ गया !

                                                            उसने कहा 
                                                           दिल तुम्हारा 
                                                        शीशे सा पारदर्शी 
                                                    और शीशे में बाल आ गया !

                                                            उसने कहा 
                                                           साथ तुम्हारे 
                                                          जन्नत हैं मेरी 
                                                  और साथ ख़्वाब बन  गये !

                                                            उसने कहा 
                                                           साँसे तुम्हारी 
                                                          ज़िन्दगी मेरी 
                                                  और साँसे नि:शेष हो गईं !


                                                             उसने कहा 
                                                            रूह तुम्हारी 
                                                          अमानत है मेरी 
                                                और अमानत में खयानत हो गयी !
                                                                                          -निवेदिता 

16 टिप्‍पणियां:

  1. उसने कहा
    साँसे तुम्हारी
    ज़िन्दगी मेरी
    और साँसे नि:शेष हो गईं !
    क्या बात...बहुत शानदार..
    मैने कहा
    कविता तुम्हारी, टिप्पणी मेरी,
    और पोस्ट हिट हो गयी :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैंने कहा
      दीदी मेरी ,
      बातें तुम्हारी
      मिठास से भी मीठी हो गईं :)

      हटाएं
  2. जीवन का एक और दृष्टि कोण ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(8-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अमानत में खयानत....???
    बहुत खूब!!!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह रचना कल शनिवार (08-06-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसने यह सब पूरे मन से कहा था न !

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस एहसास और अंदाज़ के क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये सब उसने कहा , और आप बात सरेआम उजागर कर दी , इन सबके खिलाफ कड़े कानून आ गये है !

    :-) वैसे बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह, चाहें और राहें ऐसी मधुर बनी रहें..

    उत्तर देंहटाएं