सोमवार, 31 दिसंबर 2012

कोमा में जा चुकी मन:स्थिति .....


जब भी कहीं कुछ आत्मा को छलता हुआ सा घटित होता है ,दिल - दिमाग दोनों ही कोमा में चले जाते हैं । न तो कुछ पढने का मन करता है और न ही लिखने का । बस निस्तब्ध हो छले जाने की अनुभूति करता है । हर दिन ,हर इक पल दंश देती दुष्प्रवृत्तियाँ अपने होने का एहसास करा जाती हैं । स्थान बदल जातें हैं , नाम भी बदल जाते हैं ,पर हैवानियत वही रहती है । उन अनगिनत दम तोड़ती श्वांसों में से कभी कभार कोई कराह अपनी व्यथा से सब की आत्मा को झकझोर जाती है । केन्द्रीय सत्ता को ,संस्था को कटघरे में खड़ा करते हुए विरोध प्रदर्शन का एक अनवरत सिलसिला सा निकल पड़ता है । सामर्थ्यवान  घड़ियाली  आँसू  बहाते हुए खुद को भी बेटी का पिता जतलाते हुए सम्वेदना जतलाने की औपचारिकता पूरी कर देते हैं । थोड़ा समय बीतते ही क्रमश:सब अपनी नियमित व्यस्तताओं में सब रुक्षता भूल सहज हो जाते हैं । जब फिर कहीं जुगुप्सा जगाती ऐसी वहशत भरी घटना की पुनरावृत्ति होती है तब सब जैसे नींद से जाग कर विरोध और आक्रोश के प्रदर्शन की परिपाटी का पालन करने चल पड़ते हैं । 

इस तरह की हैवानियत भरी घटनाओं का विरोध करते हुए क्या ऐसा समय नहीं आ गया है ,जब हम इनके पीछे छिपे हुए इसके कारण को भी देखें ... अपनी जिम्मेदारियों को भी समझें !

आज जिस वहशी के लिए हम सब मृत्युदण्ड की मांग कर रहे हैं , उस के कृत्य के लिए जिम्मेदार उसके अतिरिक्त और जो लोग हैं उनके बारे में क्यों नहीं सोच रहे हैं ! इसमें दोष सिर्फ उस उस की वहशी सोच का है अथवा उसको मिले उसके संस्कारों का भी है ! इंसानियत को स्त्री और पुरुष के दो अलग खेमों में बांटने वाली सोच क्यों नहीं दोषी है !

आज हमलोग जो भी बन पायें हैं वो हमारे माता-पिता से मिले हुए संस्कारों का परिणाम है । हमारे बच्चे हमारे दिए हुए संस्कारों और परवरिश के अनुसार ही अपना व्यक्तित्व निखार रहे हैं । जब शिशु का जन्म होता है वो एकदम निष्पाप .. एकदम अबोध होता है । उस कच्ची मिट्टी को हम  अपनी  सोच  और  सुविधानुसार  आकार  देते  हैं  और जब  भी  उसमें  त्रुटि  दिखती है तो  उसको तभी  ठीक करने  का  दायित्व  भी  हमारा  है । दिक्कत  तब  आती  है जब उस त्रुटि को सुधारने का समय होता है ,हम अपनी दूसरी व्यस्तताओं में मग्न रहते हैं और अगर दूसरा कोई उस ओर  इंगित  भर  कर दे हम  उसको  ही गलत प्रमाणित करने में लग जाते हैं । वो अबोध भी समझने लग जाता है कि उसके लिए  हमारे  पास  समय  नहीं है पर  हाँ उसकी गलतियों पर हम पर्दा डालने में अवश्य उसका साथ देंगे । कच्ची त्रुटियाँ ही पक्की हो कर ऐसी वहशी हो जाती हैं ।

आज जब संयुक्त परिवार नहीं रह गये हैं तो माता - पिता का दायित्व पहले की अपेक्षा बहुत बढ़ गया है , जबकि समझा हमने एकदम इसका उलटा है । संयुक्त परिवार में बड़ों का लिहाज़ बहुत सी बातें बोलने के पहले ही हमारे लबों को सिल देता था और रिश्तों का अर्थ भी समझा जाता था । पर अब छोटे उस बात को सुन कर क्या समझेंगे और क्या करेंगे ,ये ध्यान दे कर छोटों को हम भी बहुत कुछ सिखा सकते हैं ।

उम्र के हर पडाव की अपनी अलग आकांक्षाएं होती हैं । अगर परिवार उन आकांक्षाओं को संयमित और परिमार्जित  कर  पाए तभी परिवार की  सच्ची प्रासंगिकता भी है , अन्यथा उसका नाम कुछ भी रख लें वो  एक  भीड़  के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है । बच्चों को अपना समय दे कर उनको सही और गलत का अंतर भी समझा पायें तभी उनसे और समाज से भी कुछ आशा करें , क्योकि हम उनको जैसा देंगे वापस हम वही पायेंगे ।

संस्कारों  का  अर्थ  भौतिक  सुविधाएं  देना नही है । ये तो एक मासूम सा एहसास है कि उनकी किसी भी उलझन को सुलझाने में हम उनके साथ हैं ..... उनकी हर जिज्ञासा का एक स्वस्थ और सकारात्मक समाधान भी हम ही देंगे । उनको ये समझ  में  आना  कि उनके हर क्रियाकलाप का असर हम पर ही होगा । जिस दिन हमारे  बच्चों  को  ये  विश्वास हो जाएगा कि उनकी किसी भी समस्या  अथवा  किसी  भी  संशय  पर  हम  स्नेहिल  तटस्थता से उनके  मनोबल को बढाते हुए सहायक होंगे तब ही हमारी परवरिश के सही होने का आभास होगा ।

बच्चों को स्वयं गलत न करने के साथ ही साथ किसी अन्य को भी कुछ भी गलत न करने देने के लिए प्रेरित करना चाहिए । सामान्यतया  गलती  करने  वाला तो अकेला ही होता है और उसकी गलती को भोगने वाला भी , परन्तु  उसकी  गलती के   मूकदर्शक  बहुत  होते हैं । जिस दिन भी ये मूकदर्शक अपना मौन छोड़ देंगे , उस दिन से ही ऐसी हैवानियत कहीं नहीं मिलगी ।

इन सबसे भी आवश्यक कार्य जो हमको अभिभावक होने के नाते करना है वो वही है जो हम तब करते थे जब उनके अशुद्ध वर्तनी - लेखन के  समय  उनको  सुधारने  का करते थे न कि शब्दकोश बदलने लग जाते थे .... ऐसे वहशी संतानों के अभिभावकों को भी अपनी गलती सुधारनी चाहिए और उनके अवयस्क होने के प्रमाणपत्र जुटाने में नहीं लग जाना चाहिए !

काश ऐसा हो सके तो हर झूठे सच्चे पर्व पर निशंक हो इंसानियत भी उत्स्वित हो सके .......
                                                                                                                  -निवेदिता 

14 टिप्‍पणियां:

  1. कोमा में ही संस्कार अंकुरित होते हैं ......... खुद के प्रति सजगता हो गई है और .............. क्या कहें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. चिरनिद्रा में सोकर खुद,आज बन गई कहानी,
    जाते-जाते जगा गई,बेकार नही जायगी कुर्बानी,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सार्थक आलेख..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रतीक्षा है सूर्योदय की... नव वर्ष की शुभकामनाओं के साथ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. नववर्ष की ढेरों शुभकामना!
    आपकी यह सुन्दर प्रविष्टि आज दिनांक 01-01-2013 को मंगलवारीय चर्चामंच- 1111 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ...
    kash aisa ho paye....

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब भी कहीं कुछ आत्मा को छलता हुआ सा घटित होता है ,दिल - दिमाग दोनों ही कोमा में चले जाते हैं । न तो कुछ पढने का मन करता है और न ही लिखने का ।
    सच कहा आपने :(

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सार्थक लेख, नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. वक्त आत्ममंथन का है , निसंदेह .

    उत्तर देंहटाएं
  10. ’हरपल,छले जाने की अनुभूति होती है—’
    सत्य कथन,हम कितने विवश हैं,हमारी ही गढी व्यवस्था ने
    हमें पंगु बना दिया है.यह भी सत्य है,हमे ही इस व्यवस्था पर
    वज्र प्रहार करना होगा,आशा है इन स्याह बादलों के उस पार सूरज
    उगने को है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह विस्फोट उन स्थानों पर और हो रहा है जहाँ समाज संस्कार की बाड़ नहीं लगा पाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच ही तो है दूसरों पर उंगली उठाने से पहले अपने अंदर झांक कर देखना होगा कि कहीं हम भी तो वही गलती नहीं कर रहे हैं जिसके लिए आज दूसरों को दोष दे रहे हैं। विचारणीय आलेख....

    उत्तर देंहटाएं