शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

सात सुरों की सरगम बन .....



इन्द्रधनुषी से रंगों संग 
हिंडोले की मैं पेंग बन जाऊँ ! 
नाज़ुक से ख़्वाब सजा 
मीठी सपनीली नींद बुलांऊ !
कांच की खनक ला यादों में 
काँटों की तीखी चुभन भुलाऊँ !
सात सुरों की सरगम बन  
मन वीणा में बरस-दरस जाऊँ !
चंद लम्हों को सही 
जीवन में रच-बस जाऊँ !
नित घटती जाती साँसों से 
हसीन पल चुरा जीना सीख जाऊँ !
                                    -निवेदिता 

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर.......
    प्यारी सी रचना...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. सात सुरों के सरगम से,बनता सुन्दर गीत,
    मन के तार बजने लगे,याद करे मन मीत,,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  3. चंद लम्हों को सही
    जीवन में रच-बस जाऊँ !

    इसके आगे कोई क्या कहे.
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्यारी सी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया ... प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. रंग रसों में जीना हमने सीख लिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाहतों के फूल शब्द बनकर खिल गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं