रविवार, 17 जून 2012

जीवन का स्वाद ......



दिल के गोमुख में 
उमड़ कर बरसी  ये 
जीवनदायिनी गंगा है 
फिर कैसे मान लूँ 
सिर्फ खारा जल 
ये तो है बस उन 
नश्तर से चुभते 
लम्हों की एक 
डांडी - यात्रा 
हमारे दिल के 
जलते चूल्हे पर 
नयनों के पात्र में 
नमक बन चेहरा 
नमकीन बनाती हैं 
जानते हो !
नमक जरूरी है 
जीवन में भी 
लम्हे वरना बेस्वाद हो 
कहीं खो जायेंगे 
चलो ये भी हम 
बाँट लें आधा-आधा 
नमक रहे तुम्हारे पलों में 
नम मेरे चेहरा रहे ......
                 -निवेदिता 

20 टिप्‍पणियां:

  1. सही है! नमक बहुत जरूरी है। बंटवारे के बारे में कुछ न कहेंगे। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया गहन भाव अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बेहतरीन भावपूर्ण सुंदर रचना,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमक रहे तुम्हारे पलों में
    नम मेरे चेहरा रहे ......

    बहुत खूब ... सुंदरता से लिखे एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमक जरूरी है
    जीवन में भी
    लम्हे वरना बेस्वाद हो
    कहीं खो जायेंगे

    gahan aur saarthak ...sundar abhivyakti .

    shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमक रहे तुम्हारे पलों में
    नम मेरे चेहरा रहे ......
    बनी रहे ये भावनाएं !
    बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  7. नमक जरूरी है
    जीवन में भी
    लम्हे वरना बेस्वाद हो
    कहीं खो जायेंगे
    चलो ये भी हम
    बाँट लें आधा-आधा
    नमक रहे तुम्हारे पलों में
    नम मेरे चेहरा रहे ......

    ...बेहतरीन! इतनी ही रहती कविता तो अच्छा रहता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर....................

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. नमक रहे तुम्हारे पलों में
    नम मेरे चेहरा रहे ......वाह ………यहाँ भी त्याग्।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जितना चीनी जरूरी है नमक भी उतना ही जरूरी है ....
    पर चेहरे का नम रहना क्यों कर ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. नमक जरूरी है
    जीवन में भी
    लम्हे वरना बेस्वाद हो
    कहीं खो जायेंगे

    नवीन बिम्बों के प्रयोग ने कविता को अधिक प्रभावशाली बना दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुख -दुःख सब साझा करने के भाव ...अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  13. नम और नमक, दोनों ही एक जगह से उपजते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. नमक जरूरी है
    जीवन में भी
    लम्हे वरना बेस्वाद हो
    कहीं खो जायेंगे

    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  15. दिल के गोमुख में .... अविरल संभावनाएं
    लम्हों की दांडी यात्रा - व्यर्थ नहीं होती
    जीवन में नमक ना हो तो सबकुछ स्वादहीन ....
    आधे आधे की संभावना जब तक है , उसमें सबकुछ पा लें ...........
    पढ़ती हर बार हूँ , हाँ कमेन्ट नहीं कर पाती

    उत्तर देंहटाएं