शनिवार, 9 जून 2012

अमावस का चाँद



आज .....
तलाशना चाहतीं हूँ
अमावस का चाँद 
ऐसा कुछ 
असम्भव भी नहीं 
काली अंधियारी रात 
भी पूनम के चाँद सी 
चमक किलकती है 
वो शून्य ,वो वीरानी 
वो रिक्ति की विरक्ति 
सब कुछ पा कर 
चुने गये पुष्पों सी 
खाली हुई शाखा भी 
आंचल तले खिले 
सुमन की सुरभि 
से गर्वित होती 
पूजन के थाल में 
सजी-संवरी 
अपनी पहचान 
कृष्णार्पण होते देख 
अपना सूनापन भूल 
बहक-बहल जाती है 
बताओ तो ऐसा भी 
कहाँ असम्भव चाहा 
बस अँधियारी रात में 
पूनम का चाँद ही चाहा 
इस अमावस की चांदनी 
तुम्हारे चेहरों में खिलती है 
तुम्हारी खिलखिलाहट की 
रेखाएं मेरे प्राण में बसती हैं ......
                            -निवेदिता 

29 टिप्‍पणियां:

  1. सच में बच्चों में ही तो प्राण बसते हैं माता पिता के... :-) सुन्दर कविता....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शेखर , बच्चे तो माता-पिता की श्वांसों के चलने का कारण होते हैं ..:)

      हटाएं
  2. कोमल भाव लिये
    बहूत सुंदर ममत्व भरी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही ममता मई रचना ...आभार निवेदिता जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. हंसी और खिलखिलाहट हर अमावस को पूनम बना दे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता दिल को छू गयी... आभार !
    ........अमावस का चाँद दिख जाये तो बताईयेगा !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे तो अमावस का चाँद आज सुबह-सुबह ही दिख गया ... बच्चे घर आ गये हैं :))

      हटाएं
    2. अब समझ आया :)

      बेहतरीन कविता।

      भाई लोगों को हमारी हेलो :)

      सादर

      हटाएं
  6. प्यारी दुलारी रचना....
    और फोटो भी प्यारी दुलारी................
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतने प्यारे बच्चों के साथ अमावस भी पूनम हो जाती है !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढिया है। आपके घर के दूसरे ब्लॉगर आपकी तारीफ़ करने में कंजूसी काहे करते हैं? :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम्हारी खिलखिलाहट की
    रेखाएं मेरे प्राण में बसती हैं ......very nice....

    उत्तर देंहटाएं
  10. अमावस में छिपी चाँदनी से सबको आस रहती है, हमें भी हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐसी चांदनी ....हर घर आँगन पर छलके

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है!!
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि का लिंक दिनांक 11-06-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगा। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  13. तुम्हारी खिलखिलाहट की
    रेखाएं मेरे प्राण में बसती हैं .....

    सार्थक सृजन ...
    नेत्र सजल कर गयी आपकी रचना ...
    बहुत अच्छी लगी ...

    शुभकामनायें...चांदनी मे भिगो दिया मन ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह ………एक खिलखिलाहट ही अमावस को पूनम बना देती है………सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्या सुंदर....
    बहुत प्यारी रचना....
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. anju ji ki baat se sahamt hoon ...aisi chandni har ghar par chalakti rahe... best wishes :-)

    उत्तर देंहटाएं
  17. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... बहुत ही बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वो रिक्ति की विरक्ति
    सब कुछ पा कर
    चुने गये पुष्पों सी
    खाली हुई शाखा भी
    आंचल तले खिले
    सुमन की सुरभि
    से गर्वित होती
    पूजन के थाल में
    सजी-संवरी
    अपनी पहचान

    bahut sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं