शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017

मेरी लाडो ..... मेरा सपना मेरा प्यारा सा सच



स्वागत है स्वागत प्यारी लाडो का 

स्वागत दुलारी अदिति का 
स्वर्ण कणिका सी तुम 
सज जाओ परिवार के मस्तक पर
मिश्री की डली सी तुम
घुल जाओ हमारी धड़कन में


स्वागत है स्वागत प्यारी लाडो का 
स्वागत दुलारी अदिति का 
सपनों की कली सी तुम 
सज जाओ मेरे दुलारे आँचल में
तुम से ही रौशन ये घर
आ जाओ न इस सजीले उपवन में


 स्वागत है स्वागत प्यारी लाडो का 
स्वागत दुलारी अदिति का ....... निवेदिता

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-12-2017) को "सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nivedita g ... bahut sundar welcome aditi ka .... bhagwan ki kripa aap dono par bani rahe

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही ममतामयी उद्गार अपनी बेटी के लिए!! सौभाग्यवती भव!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा, स्वागत के लिये लिखी कविता अद्भुत है, बधाई आपको और आपके परिवार को।

    उत्तर देंहटाएं
  5. wow aditi and wow mami soo emotional n filled with so much purity.

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्नेहिल रचना पढ़कर मन भावविभोर हो उठा

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" आज सोमवार 18 दिसम्बर 2017 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम भरी मन भावन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज़ोरदार स्वागत है भाई अदिति का.... ऐसी सास सबको मिले :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. आभार आप सब की स्नेहिल शुभकामनाओं का :)

    उत्तर देंहटाएं