शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

अमावस की रात .......



अमावस की रात इतनी बेनूर सी सिसकी है
चाहत तो उसको भी थी खिलखिलाहट की
टिमटिमाते से सितारों  बगावत कर गये
कल आने का वादा कर दामन समेट गये
यूँ खुल के अंधेरा बरसा है किस के मन का
अपना साया भी अपनी राह भूल चल दिया ..... निवेदिता

12 टिप्‍पणियां:

  1. अंधकार को सटीक अभिव्यक्ति दी आपने, बहुत ही सुंदर, शुभकामनाएं.
    रामराम
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन का अन्धकार अमावस जैसा ही स्याह होता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " "कौन सी बिरयानी !!??" - ब्लॉग बुलेटिन , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (23-07-2017) को "शंखनाद करो कृष्ण" (चर्चा अंक 2675) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन के अंधेरे की अमावस की रात से बहुत ही बढ़िया तुलना।

    उत्तर देंहटाएं