शुक्रवार, 28 अक्तूबर 2016

लाडलों का प्यार .....




चाहतें भी कैसी कैसी 
साँसे लेती रहती हैं 
बताओ न अब 
बाँटना चाहती हैं 
अपने जीवन की 
अनबोली सी वजह
अपने लाडलों का प्यार .....
चाहतों में हलचल मची
ये बाँटना तो कभी नहीं है
चाहत है मिले लाडलों को
दुगना प्यार अपरम्पार

हमारा भी और ........ निवेदिता

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शनिवार (29-10-2016) के चर्चा मंच "हर्ष का त्यौहार है दीपावली" {चर्चा अंक- 2510} पर भी होगी!
    दीपावली से जुड़े पंच पर्वों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सभी को धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "कुम्हार की चाक, धनतेरस और शहीदों का दीया “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसी उहापोह में बँट जाना है कतरा-कतरा ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेरक प्रस्तुति ।
    आपको दीप-पर्व की शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर शब्द रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमने तो सुना था, प्यार बटा 2 होता है दोगुना प्यार.. प्यार गणित के सारे नियमों के खिलाफ होता है.. और गणित ही क्यों प्यार तो जैसे सभी नियमों के खिलाफ होता है, प्यार को कोई नियम बाँध ही नहीं सकता... वैसे हम जैसे लाड़ले तो जहाँ भी मिले वहाँ से क्विंटल भर दुलार संभाल कर रखे रहते हैं, वैसे वक़्त के लिए जब न चाहते हुए भी तनहा होते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शेखर ,
      लाडलों का प्यार कभी बंट ही नही सकता ..... वो तो जब बच्चे अपनी जिंदगी में व्यवस्थित होते हैं तब माँ की चाहत होती है अपने बच्चों का एक योग्य हमसफ़र वरदान की तरह पा लेने की और उनसे अपने बच्चों का प्यार बांटनें की जो पहले से भी बहुत ज्यादा होकर मिलता है .... सस्नेह !

      हटाएं