सोमवार, 8 सितंबर 2014

एक अकेला दिल




                                                   भूले से भी कोई जान जाये
                                              दिल में किसी के क्या - क्या छुपा है
                                                     इसके बेनकाब होते ही
                                              न जाने कितने गुमनाम फसाद हो जाते
                                                     शायद इसीलिये खुदा ने
                                              दिल तो बस एक अकेला ही बनाया
                                                     राज़ खुलने से पहले ही
                                              बस उसकी धड़कने रोक देता है ....... निवेदिता !

11 टिप्‍पणियां:

  1. शब्द-शब्द सुन्दर...!
    बहुत-2 आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुदा जानता है उसे क्या करना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिलकुल सही ...कितने ही फसादों से बचा लिया उसने

    उत्तर देंहटाएं
  4. और राज़ कई ... इसमे छुपाने को ..

    उत्तर देंहटाएं