बुधवार, 21 मई 2014

सपने भी बेबस नहीं होते ......




कभी  गड्ढों  से  झाँक कर , पाँव में चुभ जाते हैं 
कभी  समतल  पर अटक कर , ठोकर बन जाते हैं 
कभी नन्ही सी किरच बन , पलकों को रुला जाते हैं 
कभी कनी - कनी जुड़ कर , चट्टान  भी बन जाते हैं 
कभी रेशा - रेशा बिखर कर , पर्वत  भी टूट जाते हैं 
आकार बदल जाता है , हर अंदाज़ भी बदल जाता है 
कभी इंसान नहीं बन सकते , पत्थर तो बस पत्थर हैं  
शायद इसीलिये ठोकरों में ही , ठोकर बन बसे रहते हैं 
सपने भी बेबस नहीं होते ,दिन का क्या सब बदलते हैं 
सिमटते हुए बिखर जाते हैं , बिखरे हुए सिमट जाते हैं 
बिखराव में भी बिखर कर ,यूँ ही सिमटना भूल जाते हैं 
मंदिर में पहुँच कर , पत्थर में रचे गये भगवान ही तो 
हम माटी के पुतलों से , अपना पूजन करवा जाते हैं ...... निवेदिता 

16 टिप्‍पणियां:

  1. सिमटते हुए बिखर जाते हैं , बिखरे हुए सिमट जाते हैं
    बिखराव में भी बिखर कर ,यूँ ही सिमटना भूल जाते हैं

    बेतरतीब से पर सधे हुए ..... शायद यही विशेषता है इनकी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (22-05-2014) को अच्छे दिन (चर्चा-1620) पर भी है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 23/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस रचना को आज दिनांक २२ मई, २०१४ को ब्लॉग बुलेटिन - पतझड़ पर स्थान दिया गया है | बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  5. "मंदिर में पहुँच कर , पत्थर में रचे गये भगवान ही तो ... हम माटी के पुतलों से , अपना पूजन करवा जाते हैं ...."

    क्या बात है ... जय हो |

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत शानदार रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें |

    उत्तर देंहटाएं
  7. मंदिर में पहुँच कर , पत्थर में रचे गये भगवान ही तो
    हम माटी के पुतलों से , अपना पूजन करवा जाते हैं ....
    क्या बात है .......बहुत ही उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  8. मंदिर में पहुँच कर , पत्थर में रचे गये भगवान ही तो
    हम माटी के पुतलों से , अपना पूजन करवा जाते हैं...बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम माटी के पुतलों से , अपना पूजन करवा जाते हैं
    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कभी इंसान नहीं बन सकते , पत्थर तो बस पत्थर हैं
    शायद इसीलिये ठोकरों में ही , ठोकर बन बसे रहते हैं

    बहुत ही सुन्दर और गहन बात !!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुंदर गहन भावाभिव्यक्ति...दी

    उत्तर देंहटाएं