गुरुवार, 5 दिसंबर 2013

बस ऐसी ही हूँ मैं .....


हाँ ! 
इस सच को 
मानती हूँ 
और
जानती भी हूँ 
कि 
सब को
सब कुछ 
न कभी मिला है 
और
न ही 
कभी मिलेगा 
तब भी 
जो भी 
जितना भी 
मेरा है 
उसको तो
कभी कहीं 
जाने भी तो 
नहीं दे सकती 
बस ऐसी ही हूँ मैं ..... निवेदिता 

17 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसी ही रहना......
    जो भी जितना भी तुम्हारा है वो तुमसे दूर जाएगा भी नहीं :-)
    बहुत प्यारी पंक्तियाँ.
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. जितना भी
    मेरा है
    उसको तो
    कभी कहीं
    जाने भी तो
    नहीं दे सकती
    बस ऐसी ही हूँ मैं ..

    प्रेम ही अधिकार देता है ....सुंदर पंक्तियाँ निवेदिता जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे ही तो होना भी चाहिए.
    वैसे जो अपना है वो कहीं जाता भी नहीं :).

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया,बेहतरीन अभिव्यक्ति...!
    ----------------------------------
    Recent post -: वोट से पहले .

    उत्तर देंहटाएं
  5. जैसी हो वैसी ही रहो दी ...:) जो अपना है वो अपना ही रहता है,कहीं नहीं जाता...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (06-12-2013) को "विचारों की श्रंखला" (चर्चा मंचःअंक-1453)
    पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 07/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो मिल गया उसकू नहीं छोड़ना चाहिए ... कभी भी नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. यही तो पूँजी है एक व्यक्ति की.. न उसे छोडना, न उसको बदलना!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ऐसी ही रहें, वही अच्छा है। आदर्शों का बोझ बहुत अधिक होता है।

    उत्तर देंहटाएं