सोमवार, 5 मार्च 2012

रंग भरे मौसम से .....



तमाम सारे इन्द्रधनुषी रंग सब जगह खिले-खिले से झूम रहे हैं ,पर एक रंग बेरंग सा सकुचाया ,जैसे अपने होने की शर्मिन्दगी को ढ़ो रहा था । इन शोख रंगों में सब कुछ भूले हुए ,हम  उन उदास कोनों को कैसे अनदेखा कर जाते हैं जिनके बल पर ही हमारे घरों की रंगीनी बनी रहती है । हम अपने सुरक्षा-प्रहरियों को ,चाहे वो राष्ट्र की सीमाओं की रक्षा कर रहें हो अथवा शहर और गाँवों में तैनात हों ,भूले से रहते हैं । कोई भी पर्व हो अथवा पारिवारिक उत्सव ,इन जाबांजों को ऐसी छोटी-बड़ी खुशियाँ कमजोर नहीं कर पातीं । ये सुरक्षा प्रहरी तो हमारी खुशियों की स्वंत्रता के सुदृढ़ रक्षक बने हमारे रंगों में चमक और दीयों में उजास भरते हैं ,परन्तु हम उनके लिए क्या करते हैं ? अगर उनकी अनुपस्थिति में हम उनके परिवार को अपने रंगों की चमक में शामिल कर लें तो शायद एक सुकून उनको भी मिलेगा कि उनका परिवार अकेला और बेरंग नहीं है । परिवार को मिलने वाला छोटा सा सम्बल हमारे समाज में कहीं बढ़ कर ही मिलेगा । ये एक ऐसी छोटी सी पहल होगी जो आने वाले दिनों में इन सुरक्षा-प्रहरियों की संख्या में कभी भी कमी नहीं आने देगा और उनके घरों में भी रंगों की चमक बढ़ जायेगी ..........
           -निवेदिता

17 टिप्‍पणियां:

  1. निवेदिता जी,..बहुत बढ़िया विचार उनके अनुपस्थित में हमको उन्हें अपने खुशियों में शामिल करना चाहिए,...
    होली की बहुत२ बधाई,.....

    NEW POST...फिर से आई होली...
    NEW POST फुहार...डिस्को रंग...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके विचारो से पूर्णतया सहमत . होली की हार्दिक शुभकामनाये .

    उत्तर देंहटाएं
  4. सचमुच विचारनीय तथ्य !
    होली की ढेर सारी शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही बत कही आपने।

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. होली पर इस अर्थपूर्ण प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार ! वास्तव में हम उनको नजरंदाज कर कृतघ्न तो नहीं हो जाते हैं. या हम अपने में ही इतने मशगूल रहते हैं कि आसपास की खैरियत भी नहीं ले पाते हैं. अपने इस ओर ध्यान दिलाया पुनः आभार !
    कभी नजरें हमारी ओर भी इनायत कीजिये.
    होली की अनेकानेक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. होली पर इस अर्थपूर्ण प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार ! वास्तव में हम उनको नजरंदाज कर कृतघ्न तो नहीं हो जाते हैं. या हम अपने में ही इतने मशगूल रहते हैं कि आसपास की खैरियत भी नहीं ले पाते हैं. अपने इस ओर ध्यान दिलाया पुनः आभार !
    कभी नजरें हमारी ओर भी इनायत कीजिये.
    होली की अनेकानेक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. .बहुत ही खुबसूरत रंगों से भरा हो आपका होली का त्यौहार.....
    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपसे सहमत हूँ,...नाविदिता जी

    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सच कहा है...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...होली की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  12. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  13. मनन करने योग्य चिंतन..होली की शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच ही कहा अपने वाकई विचारणीय बात है...सार्थक पोस्ट हमारी और से आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं