गुरुवार, 9 जनवरी 2014

ख़यालों की उलझन .......


ये मौसम ,
बड़े ही अजीब होते 
उन कदमों से 
इन आँखों तक 
रोज ही 
अपनी राह बदलते हैं 
कभी नम
कभी खुश्क साँसें भर 
बसंत को पतझर 
बना निर्जीव कर जाते हैं 

सफर 
फूलों का 
बस इतना सा ही है 
उस शाख से 
पूजा की डोली तक 
और कभी 
दुल्हन की डोली से 
कदम बढ़ा 
उस की अंतिम शय्या तक 


निष्कंटक 
बनी शाख की 
अनछुई छुवन 
अधखिले फूलों सी 
तीली के लब पर 
कंपकंपाती थिरकन 
ख़यालों के 
हर निशान समेटती 
वो तपन 
मासूम से शोलों की  ....... निवेदिता 


26 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (10.01.2014) को " चली लांघने सप्त सिन्धु मैं (चर्चा -1488)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,नव वर्ष कि मंगलकामनाएँ,धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा - मंच में सम्मिलित करने के लिये आभार आपका :)

      हटाएं
  2. कल 10/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. माना की कम है फूलों का सफर ... पर है तो खूबसूरत ... जिसकी तलाश है सबको ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. निष्कंटक
    बनी शाख की
    अनछुई छुवन
    अधखिले फूलों सी
    तीली के लब पर
    कंपकंपाती थिरकन
    ख़यालों के
    हर निशां समेटती
    वो तपन
    मासूम से शोलों की ...वाह दी!!! बेहद सुंदर पंक्तियाँ अनुपम भाव संयोजन...:))

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभी तो ठंडक ने अंदर तक जमा कर रखा हुआ है :)
    .
    ख्याल भी जम से गए दी :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बचपन में पुष्प की अभिलाषा पढ़ी थी और आज पुष्प की यात्रा देखी.. एक शब्द में कहूँ तो 'सम्पूर्ण'!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भैया आज तो आपने एकदम से सातवें आसमान पर पहुंचा दिया ... सादर !!!

      हटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लाग बुलेटिन में सम्मिलित करने के लिये आभार :)

      हटाएं
  8. सलिल दादा ने मेरे मन की बात लिख दी ... :)
    प्रणाम भाभी |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भईया ,शब्दों की ऐसी कंजूसी कि भैया के शब्दों से ही काम चला लिया ..... सस्नेह :)

      हटाएं
  9. बहुत सुन्दर......
    निष्कंटक
    बनी शाख की
    अनछुई छुवन
    अधखिले फूलों सी
    तीली के लब पर
    कंपकंपाती थिरकन..................वाह!!!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर... उत्कृष्ट रचना,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनुपम अभिव्यक्ति ! बहुत ही सुंदर रचना ! वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सफर
    फूलों का
    बस इतना सा ही है
    उस शाख से
    पूजा की डोली तक
    और कभी
    दुल्हन की डोली से
    कदम बढ़ा
    उस की अंतिम शय्या तक


    दिल को छूती सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    आभार.

    नववर्ष की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  13. कंपकंपाती थिरकन
    ख़यालों के
    हर निशां समेटती
    वो तपन
    मासूम से शोलों की ..
    ....... सुंदर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  14. नई पोस्ट पर आपका सवगत है निवेदिता जी
    .... खामोश रही तू :))
    http://sanjaybhaskar.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  15. निष्कंटक
    बनी शाख की
    अनछुई छुवन
    अधखिले फूलों सी
    तीली के लब पर
    कंपकंपाती थिरकन
    ख़यालों के
    हर निशान समेटती
    वो तपन
    मासूम से शोलों की ......
    वाह .... अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  17. अप्रतिम भावपूर्ण रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  18. ख़्यालों को अन्दर तक भेदते मौसमों के कंटक।

    उत्तर देंहटाएं