शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

आशीष बन बरस जाओ ......

खट खटाक खड़क 
सन्नाटे में गूंजती 
कदमों की आवाजें 
सिटकनी लगाते 
अटकती झिझकती 
श्वांसों की राह  
रोकते अनदेखे 
नक्षत्र ........
मुंदी पलकें 
उलझी अलकें 
रक्त कणिका बन 
रुक्ष तन्तुओं में 
जीवन बन 
बरस जाओ 
हे प्रभु ! 
दुआओं में 
जुड़े हाथों में 
आशीष बन 
बरस जाओ ......
         - निवेदिता 

18 टिप्‍पणियां:

  1. आपने ठीक कहा वास्तव मेँ इन दुआओँ की जरूरत है । आपकी दुआएँ स्वीकार हो यही शुभकामना है । सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 06/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. हाँ दी ,मेरी जिठानी की तबियत ठीक नहीं है ,वो वेंटीलेटर पर हैं ये दुआ उन के लिए है ......

      हटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन नहीं रहे कंप्यूटर माउस के जनक डग एंजेलबर्ट - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अन्तर कहता है तो सच भी हो ही जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तथास्तु ! ईश्वर सब कुशल करे !

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी प्रार्थनाओं में हम भी साथ हैं.....
    हिम्मत बनाए रखिए...

    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं