शुक्रवार, 19 अप्रैल 2013

आँखें



ये ऐसी विशिष्ट आँखें हैं जिनको एक व्यक्तित्व नहीं सिर्फ उसका स्त्री शरीर ही दिखाई देता है ....


आँखें 
कितनी बड़ी दुआ हैं !
किसी अंधेरी राह के 
राही ने हसरत छलकाई 
सच ऐसा है क्या ...
सोते - जागते हर पल 
स्वप्नदर्शी बना 
कितनी चुभन दे 
दिखा कर राह  
रौशन अँधेरे की  
गहराइयाँ 
या 
श्वांस - प्रश्वांस की 
राह छलती 
दम तोड़ते बोलों से 
अबोला करती 
देखे - अनदेखे सपनों पर 
अश्रुधार बरसा 
विप्लव का तांडव बन 
कसक बन जाती ....
कैसी है ये दुआ 
सिर्फ निगाहें डाल 
कर जाती अवांछनीय 
और हाँ !
घट भी जाता है अघटनीय 
                            -निवेदिता 

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत गहन भाव.....

    बहुत ही अच्छी रचना.
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँखें नियामत हैं....पर कभी कभी इन्हीं से दरिंदगी भी छलकती है ... गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (21-04-2013) के चर्चा मंच 1220 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी को अपना योगदान इस समस्या के उन्मूलन के लिये करना चाहिये. सामयिक प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं