शनिवार, 26 जनवरी 2019

तिरंगे का पाँचवां रंग

तिरंगे का पाँचवां रंग
आँखों से बहते हुए आँसुओं ने जैसे उसके दिल में बसेरा कर लिया हो । अभी विज्ञापन देखा था जिसमें बच्चे ने शहीद हुए फौजी के रक्त को झंडे के पाँचवे रंग के रूप में गिनाया था ।
सच जब तक फौजी साँसें भरता है पराक्रम करता है तिरंगे की आन को बनाये रखता है ... पर जब उसकी साँसें थमती हैं तो जैसे उस झंडे में ही समाहित हो एक अनोखा सा रंग बन उभरता है । इस रंग के उभरने से राष्ट्र की चमक तो नहीं फीकी पड़ती पर उस फौजी के परिवार का क्या कहें ... कुछ समय बाद सब उसको भूल जाते हैं । कभी कुछ अनुकम्पा राशि या किसी दुकान की एजेंसी दे देते हैं ।उसके बाद .... उसके बाद कुछ खास नहीं बस 15 अगस्त या 26 जनवरी पर यादकर लेते हैं और कुछ फूल या माला अर्पित कर कर्तव्यमुक्त हो जाते हैं ।
पर क्या इतना ही पर्याप्त है एक फौजी के लिए कि वो निश्चिन्तमना हो अपने परिवार अथवा आश्रितों को भूल ,अपनी साँसें अपना जीवन वार दे राष्ट्र के नाम ....
क्या ये हमसब का कर्तव्य नहीं है कि उन के नाम सिर्फ सड़क ,पार्क अथवा मूर्ति ही न लगा कर कुछ सार्थक भी करें । जिन राजनेताओं की कोई कोई विशेष योग्यता - शौक्षणिक अथवा शारीरिक / सामाजिक - नहीं होती उनके लिये भी अच्छाखासा वेतनमान और अन्य सुविधाएं दी जाती हैं ।हम आम जन भी वेतन भत्ते के साथ ही कुछ न कुछ सुविधाओं का उपभोग करते हैं । जिन वीर फौजियों के लिये के बल पर हम स्वतंत्र साँसें भरते हैं ,उनके लिए कोई विशिष्ट प्रावधान क्यों नहीं करते ।
मुझे लगता है कि हमको उन जांबाजों का मनोबल बनने के लिये उनके परिवार के लिये नींव सदृश होना चाहिए ।उनके लिये आर्थिक ,सामाजिक हर स्तर पर अतिविशिष्ट दर्जा देना चाहिए ।
तब ही हम तिरंगे के पाँचवें रंग का सम्मान करते हुए उसको गर्व से फहराने योग्य हो पाएंगे । अगर ऐसा नहीं कर सकते हैं तो आइये एक रस्म की तरह बोल लेते हैं ..... जय हिंद !!!
                                                           .... निवेदिता

7 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को ७० वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 26/01/2019 की बुलेटिन, " ७० वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं“ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रिय सखी निवेदिता जी -आज आप का लेख पढ़ा बहुत अच्छा लगा,आप का विचार सराहनीय है,मेरे पति आर्मी में है मैं ने ये दर्द .... आप के साथ मैं भी एक अपील करना चाहती हूँ की शहीद की पत्नी को सम्मान की निगाहों से देखो,उन मासूम बच्चों के सर पर एक बार अपना हाथ जरूर रखो...
    बेहतरीन पहल
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (28-01-2019) को "सिलसिला नहीं होता" (चर्चा अंक-3230) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. आवश्यक सूचना :
    अक्षय गौरव त्रैमासिक ई-पत्रिका के प्रथम आगामी अंक ( जनवरी-मार्च 2019 ) हेतु हम सभी रचनाकारों से हिंदी साहित्य की सभी विधाओं में रचनाएँ आमंत्रित करते हैं। 15 फरवरी 2019 तक रचनाएँ हमें प्रेषित की जा सकती हैं। रचनाएँ नीचे दिए गये ई-मेल पर प्रेषित करें- editor.akshayagaurav@gmail.com
    अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जाएं !
    https://www.akshayagaurav.com/p/e-patrika-january-march-2019.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. आवश्यक सूचना :
    अक्षय गौरव त्रैमासिक ई-पत्रिका के प्रथम आगामी अंक ( जनवरी-मार्च 2019 ) हेतु हम सभी रचनाकारों से हिंदी साहित्य की सभी विधाओं में रचनाएँ आमंत्रित करते हैं। 15 फरवरी 2019 तक रचनाएँ हमें प्रेषित की जा सकती हैं। रचनाएँ नीचे दिए गये ई-मेल पर प्रेषित करें- editor.akshayagaurav@gmail.com
    अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जाएं !
    https://www.akshayagaurav.com/p/e-patrika-january-march-2019.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सटीक प्रश्न उठाती रचना राष्ट्र के रक्षकों के और शहीदों के परिवारों की स्थिति चिंताजनक ह बस थोडे दिन की सहानुभूति से जीवन नही चलता । और नये भरती होने वालों का मनोबल भी टूटता है ।
    बहुत सटीक अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं