रविवार, 2 अगस्त 2015

ये रिश्ता , दोस्ती का ....

ये रिश्ता
दोस्ती का
ये एहसास
दोस्ती का
जो …
उदासी के पलों में
स्मित बरसा दे
मुस्कान के पलों में
खिलखिलाहट बिखरा दे
ऐसे दोस्त की दोस्ती
अबोली अनबूझी सी
बस सहेज ली हमने
और भी कुछ साँसे
जीवंत से जीवन की
मन भर जी लीं हमने …… निवेदिता

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ.....
    दामन भरा रहे खुशियों से....दोस्तों और दोस्ती के सुख से भलभालाती रहे जीवन नदिया :-)
    <3
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बस सहेजे रहिए ऐसी दोस्ती...और हमेशा खिलखिलाती रहिए...:*
    <3

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, मेहनती सुप्रीम कोर्ट - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमने देखें हैं रिश्ते दोस्ती के भी ...... :)
    कुछ न कहेंगे !!

    उत्तर देंहटाएं